समाचार ब्यूरो
24/02/2022  :  09:22 HH:MM
उपराष्ट्रपति ने अच्छे स्वास्थ्य और बेहतर रहन-सहन के लिए शुद्ध पेयजल और स्वच्छता के महत्व पर ज़ोर दिया
Total View  749

उपराष्ट्रपति श्री एम. वेंकैया नायडू ने आज बीमारियों को रोकने और लोगों के समग्र रहन-सहन में योगदान देने के लिए शुद्ध पेयजल और स्वच्छता जैसी बुनियादी सुविधाओं के महत्व पर जोर दिया। उन्होंने लोगों को आगाह करते हुए कहा कि कोविड महामारी के समाप्त होने के बाद भी लोगों को अपना बचाव कम नहीं करना चाहिए और बार-बार हाथ धोने की आदत को बनाए रखना चाहिए।

राष्ट्रीय वॉश कॉन्क्लेव-2022 का राजभवन, चेन्नई से वर्चुअल तरीके से उद्घाटन करने के बाद अपने संबोधन में उपराष्ट्रपति ने कहा कि बच्चों को ऐसे वातावरण में पलना-बढ़ना चाहिए जो भौतिक और भावनात्मक दोनों रूप से स्वस्थ हो। इसके लिए उन्होंने कहा कि शुद्ध पेयजल, स्वच्छता और स्वास्थ्यकर आदतों जैसे निवारक स्वास्थ्य उपायों को आंगनबाड़ियों और प्राथमिक विद्यालयों से शुरू करना चाहिए।

जल, स्वच्छता और आरोग्य शास्त्र (डब्ल्यूएएसएच-वॉश) पर तीन दिवसीय वर्चुअल सम्मेलन का आयोजन राष्ट्रीय ग्रामीण विकास और पंचायती राज संस्थान (एनआईआरडीपीआर), हैदराबाद द्वारा जल शक्ति मंत्रालय, पंचायती राज मंत्रालय, यूनिसेफ और अन्य विकास भागीदार के सहयोग से किया जा रहा है। इस सम्मेलन में 'पंचायतों में पानी, स्वच्छता और स्वास्थ्यकर आदतों को आगे बढ़ाने' पर ध्यान केंद्रित किया जा रहा है।

उपराष्ट्रपति ने कहा कि ग्राम पंचायतों के लिए वॉश एजेंडा को आगे बढ़ाना महत्वपूर्ण है क्योंकि ग्रामीण जलापूर्ति का काम उन्हीं का है। श्री नायडू ने सभी ग्रामीण लोगों तक प्रभावी सेवा वितरण के लिए पंचायतों को संस्थागत मजबूती सुनिश्चित करने की आवश्यकता पर बल दिया। उन्होंने कहा, "यह शासन का एक महत्वपूर्ण पहलू है जिस पर मैं हमेशा जोर देता हूं- हर क्षेत्र में सेवाओं का कुशलता से अंतिम व्यक्ति तक वितरण- चौतरफा विकास को तेज करने की कुंजी है।"

उपराष्ट्रपति ने आगे कहा कि एक राष्ट्र के रूप में, हमें यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि प्रत्येक घर को सभी बुनियादी सुविधाएं मिलें - उनमें से सबसे आवश्यक वॉश से संबंधित सुविधाएं हैं। उन्होंने यह माना कि प्रत्येक ग्रामीण परिवार को शुद्ध पेयजल और स्वच्छता उपलब्ध कराना एक बहुत बड़ा कार्य है। श्री नायडू ने कहा कि "इसे तभी संभव किया जा सकता है जब इस एकमात्र लक्ष्य और दृढ़ संकल्प के साथ जिम्मेदार लोगों का बड़ा समूह आपस में हाथ मिलाए।"






Related Links :-
कोविड-19 पर पीआईबी का बुलेटिन
कोविड-19 पर पीआईबी का बुलेटिन
डॉ मनसुख मंडाविया ने भारत के कोविड-19 टीकाकरण कार्यक्रम पर प्रकाश डालने वाले प्रतिस्पर्धात्मकता संस्थान की रिपोर्ट जारी की
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. मनसुख मांडविया ने सफदरजंग अस्पताल का दौरा किया, अस्पताल में सुधार उपायों पर विभाग के अध्यक्षों और कर्मचारियों की स्पष्ट प्रतिक्रिया प्राप्त करने के लिए उनके साथ अनौपचारिक बातचीत की
राज्‍यों और केन्‍द्र शासित प्रदेशों के पास कोविड-19 टीके की उपलब्‍धता
कोविड-19 टीकाकरण पर अपडेट- 403वां दिन
राज्‍यों और केन्‍द्र शासित प्रदेशों के पास कोविड-19 टीके की उपलब्‍धता
निशुल्क स्वास्थ्य एवं नेत्र जांच शिविर लगाया
कोविड-19 अपडेट
राज्‍यों और केन्‍द्र शासित प्रदेशों के पास कोविड-19 टीके की उपलब्‍धता