समाचार ब्यूरो
17/05/2022  :  13:16 HH:MM
बड़े देशों की आगे बढ़ने की होड़ के कारण दुनिया में बढ़ी सहयोग की दिक्कतें, अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था के सामने चुनौती
Total View  691


पिछले कुछ महीनों में अमेरिका के नेतृत्व में कई लोकतांत्रिक देश एक संयुक्त मंच बनाने की कोशिश कर रहे हैं ताकि रूसी आक्रमण झेल रहे यूक्रेन की मदद की जा सके। ये देश रूस पर सामूहिक दबाव बनाने की कोशिशों के अलावा चीन की कूटनीतिक कोशिशों पर भी नजर बनाए हुए हैं। खासकर चीन की उन कोशिशों पर, जिसके जरिए वो अपनी ही तरह के प्रभुत्ववादी देशों के साथ संबंधों को मजबूत बनाने में लगा है। इस साल फरवरी में जब से रूस ने यूक्रेन पर आक्रमण किया है, पश्चिमी देश रूस को सैन्य सहायता देने को लेकर चीन को लगातार चेतावनी दे रहे हैं। इस हफ्ते, कुछ वरिष्ठ अमेरिकी अधिकारियों ने रॉयटर्स न्यूज एजेंसी को बताया कि उन्होंने प्रत्यक्ष रूप से नहीं देखा है कि चीन ने रूस को किसी तरह की कोई सैन्य या आर्थिक सहायता दी है। इसके बावजूद, चीन की सरकार यूक्रेन में रूसी गतिविधियों की निंदा करने को तैयार नहीं है।






Related Links :-
पाकिस्तान में ईंधन और बिजली होगी महंगी, IMF से मदद के लिए सब्सिडी में कटौती करेगी शहबाज सरकार
अमेरिका के न्यूयॉर्क में एक सुपरमार्केट में अंधाधुंध फायरिंग से कोहराम! 10 लोगों की गई जान
डोनाल्ड ट्रंप की ट्विटर पर जल्द होगी वापसी! एलॉन मस्क ने कहा- अकाउंट से हटाएंगे बैन
श्रीलंका में हालात और हुए खराब, राजपक्षे सरकार के मंत्रियों-नेताओं के घरों पर हमले, आगजनी, 5 लोगों की मौत, कई घायल
क्यूबा: हवाना के एक लग्जरी होटल में शक्तिशाली विस्फोट, 18 से ज्यादा लोगों की मौत, 50 से अधिक घायल
सत्ता जाते ही Imran Khan के करीबियों के बुरे दिन शुरू, वाइफ की खास दोस्त इस मुश्किल में फंसी
जेलेंस्की ने कीव में एक और सामूहिक कब्र मिलने का किया दावा, कहा- 900 लोगों को मार डाला
रूस ने 40 जर्मन राजनयिकों को निकाला, बर्लिन के कदम के जवाब में कार्रवाई
तालिबान ने अब यूनिवर्सिटी स्टूडेंट्स के लिए जारी किया ऐसा फरमान, मच गया बवाल
Russia-Ukraine War: 'यूक्रेनी मिसाइल' ने रूस के इस शहर में मचाई तबाही, ऑयल डिपो को किया नेस्तनाबूद